Ticker

6/recent/ticker-posts

पीने के पानी को तरस रहे लोग यहां सरकारी ठेकेदार ने सार्वजनिक हैंडपंप में मोटर डालकर धड़ल्ले से कर रहा उपयोग

पीने के पानी को तरस रहे लोग यहां सरकारी ठेकेदार ने सार्वजनिक हैंडपंप में मोटर डालकर धड़ल्ले से कर रहा उपयोग

मूकदर्शक बना सिहोरा का प्रशासनिक और नगरपालिका का अमला : स्थानीय लोग पानी के लिए परेशान दिखा आक्रोश


सिहोरा

सार्वजनिक और सरकारी पेयजल स्रोतों पर निजी लोगों के कब्जों से सामान्य जन को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जिन हैंडपंपों का उपयोग सार्वजनिक तौर से होता था, अब उन्हें प्राइवेट तौर पर उपयोग में लिया जा रहा है, लेकिन इसे देखने-सुनने वाला कोई नहीं है। ऐसा ही एक मामला वार्ड नंबर 10 स्थित सार्वजनिक हैंडपंप का प्रकाश में आया है। जहां शासकीय भवन निर्माण ठेकेदार द्वारा अपनी मोटर लगा रखी हैं और सार्वजनिक उपयोग बंद कर दिया है।

सरकारी हैंडपंप में निजी मोटर

नगर पालिका क्षेत्र में  सार्वजनिक नल जल आपूर्ति  है लेकिन गिरते भूजल जल स्तर के कारण अनेक क्षेत्रों में पेयजल संकट गहराता जा रहा है विकल्प के रूप में स्थानीय लोग सार्वजनिक हैंडपंप से आपूर्ति पूरी कर रहे हैं। इसके बावजूद हैंडपंपों को निजी कब्जे में ले लिया है। हालांकि यह हैंडपंप सार्वजनिक होने से सड़कों के किनारे ही खुली जगह में स्थापित हैं, लेकिन उनका उपयोग कोई आम आदमी नहीं कर पा रहा ।

क्या है मामला

वार्ड नंबर 10 में सार्वजनिक हैंडपंप का उपयोग स्थानीय लोगों द्वारा किया जाता था, लेकिन गत दिवस सामुदायिक भवन निर्माण ठेकेदार द्वारा हैंडपंप निकालकर उसमें मोटर डाल दी जिसके चलते स्थानीय लोगों को जल संकट से गुजरना पड़ रहा है  सार्वजनिक पेयजल स्रोतों पर निजी लोगों के कब्जोंं को लेकर शासन-प्रशासन गंभीर नहीं है। कभी भी इस बात का सर्वे नहीं कराया जाता कि जो सरकारी हैंडपंप लगवाए गए हैं, उनकी वर्तमान हालत क्या है। जब शिकायतों पर कार्रवाई नहीं होती तो सामान्य तौर पर इसे नोटिस करना तो दूर की बात है।


क्या कहते हैं जिम्मेदार

 सार्वजनिक नल का व्यवसायिक उपयोग नहीं किया जा सकता। हालांकि उक्त हैंडपम्प में भी जलस्तर कम होने के कारण पानी कम आ रहा है। प्रेशर के द्वारा बोर साफ करा कर पुनः हैंडपंप लगवाया जाएगा।

 देवेंद्र व्यास, उपयंत्री नगर पालिका सिहोरा