Ticker

6/recent/ticker-posts

Weenews : एफआईआर दर्ज नहीं होने से व्यथित किसान मिट्टीतेल लेकर पहुँच गया पुलिस अधीक्षक के ऑफिस


एफआईआर दर्ज नहीं होने से व्यथित किसान मिट्टीतेल लेकर पहुँच गया पुलिस अधीक्षक के ऑफिस



बिलासपुर। लेनदेन के मामले में थाने में रिपोर्ट दर्ज नहीं होने से दयालबंद में रहने वाला किसान मिट्टीतेल लेकर एसपी आफिस पहुंच गया। वह कुछ कर पाता इससे पहले एसपी आफिस में तैनात जवानों ने उसे पकड़ लिया। इसकी जानकारी होने के बाद सिविल लाइन सीएसपी और थाना प्रभारी भी मौके पर पहुंच गए। पूछताछ के बाद उन्होंने किसान को समझाइश दी है। साथ ही उसके स्र्पये वापस लौटाने का आश्वासन दिया है। कोतवाली क्षेत्र के नारियलकोठी में रहने वाले महेंद्र कश्यप(42) किसान हैं।
शुक्रवार की दोपहर वे मिट्टी का तेल लेकर एसपी कार्यालय पहुंच गए। मिट्टीतेल के डिब्बे पर नजर पड़ते ही एसपी आफिस की सुरक्षा में लगे जवानों ने उन्हें पकड़ लिया। इसकी जानकारी उच्च अधिकारियों को दी गई। इस पर सिविल लाइन सीएसपी मंजुलता बाज और थाना प्रभारी परिवेश तिवारी मौके पर पहुंच गए। पूछताछ में किसान ने बताया कि पहले वे दवा सप्लाई का काम करते थे। इसी सिलसिले में उनकी मुलाकात सुनील नामंचदानी से हुई। सुनील ने किसान को एक जमीन दिखाकर बेचने की बात कही। जमीन एक महिला के नाम पर थी। महिला ने जमीन की पावर आफ अटार्नी रायपुर के एक बिल्डर को दी थी।
बिल्डर से बातचीत के बाद उन्होंने जमीन खरीदने के लिए सुनील को 11 लाख स्र्पये एडवांस में दे दिए। कोरोना के कारण लाकडाउन लगने के कारण जमीन की रजिस्ट्री नहीं हो पाई। इसी बीच एग्रीमेंट कराने वाले और जमीन मालिक महिला की मौत हो गई। इसके कारण उनके स्र्पये अटक गए। महेंद्र ने इसकी शिकायत पुलिस से की। जमीन के एग्रीमेंट संबंधी दस्तावेज, लेनदेन की कोई रसीद नहीं होने के कारण कोतवाली पुलिस ने उन्हें न्यायालय जाने की सलाह दी है। इधर वे पुलिस से रिपोर्ट दर्ज करने के लिए अड़े हुए हैं। मामले की जानकारी होने पर एसपी पास्र्ल माथुर ने एएसपी उमेश कश्यप को रायपुर के बिल्डर के आफिस में संपर्क कर किसान की मदद करने निर्देश दिए हैं।