Weereport : साथी पटवारी के विरुद्ध विधिविरुद्ध कार्यवाही, पटवारी संघ ने खोला मोर्चा

बिलासपुर। जिला के पटवारी संघ ने अपने.साथी पटवारी के विधि विरुद्ध गिरफ्तारी को लेकर मोर्चा खोल दिया है और उचित समाधान बिना धरना समाप्त नहीं करने का निर्णय लेने है । मिली जानकारी के अनुसार जिला पटवारी संघ अध्यक्ष ने आज कलेक्टर परिसर में धरना प्रदर्शन की अनुमति लेने के बीच बताया कि हमारा विरोध इसलिए नही है कि पामगढ पटवारी को गिरफ्तार किया गया है बल्कि विरोध इस.बात का है कि पटवारी देवेंद्र साहू को एक षड्यंत्र रच कर विधि विरुद्ध  गिरफ्तार किया गया है और आज हमने इसका विरोध नही किया तो यह किसी भी पटवारी के साथ हो सकता है ।

एफआईआर से पहले ही गिरफ्तारी

बिना जांच गिरफ्तारी

पटवारी संघ अध्यक्ष ने बताया कि 31 जून को रात्रि लगभग दस बजे पटवारी देवेंद्र साहू के विरुद्ध तहसीलदार बजरंग साहू ने एफआईआर करवाया है जबकि गिरफ्तारी उसी रात दो घंटे पूर्व लगभग 8.00 कर ली गयी है । इस गिरफ्तारी के विषय में.घरवालों को कोई जानकारी नहीं थी । यह भी आश्चर्य का विषय है कि स्वयं दंडाधिकारी होते हुए भी पामगढ तहसीलदार तथा नायाब तहसीलदार ने विधि विरुद्ध कार्य किया है । सिविल सेवा अधिनियम 1998 के तहत किसी भी कर्मचारी या अधिकारी को जांच के बिना न दोषी करार दिया जा सकता है और नही गिरफ्तार किया जा सकता है परंतु तहसीलदार पामगढ़ ने इस मामले में इतनी तेजी से कार्यवाही करते हुए.स्वयं जाकर एफआईआर करवाया है इससे इस आशंका को बल मिलता है कि पटवारी देवेंद्र साहू को षडयंत्र के तहत गिरफ्तार किया गया है ।

पामगढ़ प्रकरण में पंतोरा थाने की क्या और कैसी भूमिका 

पटवारी संघ अध्यक्ष ने यह भी बताया है कि गिरफ्तारी के बाद देवेंद्र साहू को पामगढ़ थाने या जांजगीर थाने मे रखना चाहिए था लेकिन पटवारी देवेंद्र साहू को पंतोरा थाना ले जाया गया था , इससे ऐसा लगता है कि आरोपी पटवारी न होकर फरारी बदमाश हो ।
इस विषय मे जब हमने.तहसीलदार , नायाब तहसीलदार और थाना प्रभारी पामगढ से बात करनी चाही तो उन्होंने फोन नही उठाया ।

हम लोग यहां तहसीलदार , नायाब तहसीलदार और पामगढ थाना प्रभारी के विधि विरुद्ध की गयी कार्यवाही के विरोध में धरना प्रदर्शन की अनुमति जिला कलेक्टर से प्राप्त करने आये.है और हमें जब तक अनुमति नहीं मिलेगी हम ऐसे ही डटे रहेंगे ।

जिला पटवारी संघ
Previous Post Next Post