पहले भी खाने में कच्ची रोटियां और गंदे चादर को देने की शिकायत की थी छात्रों ने, जांच में सही पाई गई थी

पहले भी खाने में कच्ची रोटियां और गंदे चादर को देने की शिकायत की थी छात्रों ने, जांच में सही पाई गई थी





वार्डन के खिलाफ नहीं हुई कोई भी कार्रवाई जांच ठंडे बस्ते में, लंबे समय से अंगद की तरह जमे सिहोरा में

सोमवार को जारी हो सकता है कारण बताओ नोटिस, जवाब से संतुष्ट नहीं होने पर कार्रवाई तय

WEENEWS लगातार

सिहोरा 

सिहोरा के वार्ड क्रमांक 3 स्थित हरिजन छात्रावास में छात्रों को दिए जाने वाले खाने  में कीड़े मिलने के गंभीर मामले में सोमवार को वार्डन और रसोईया को सिहोरा एसडीएम द्वारा नोटिस जारी हो सकता है। जवाब से संतुष्ट नहीं होने पर मामले को जबलपुर कलेक्टर को भेजा जाएगा। 

सूत्रों के मुताबिक हरिजन छात्रावास में पदस्थ वार्डन के खिलाफ छात्रों ने कुछ वर्ष पहले खाने में कच्ची रोटियां और गंदे चादर दिए जाने की शिकायत की थी। शिकायत की जांच के दौरान मामला सही पाया गया लेकिन इसके बावजूद वार्डन के खिलाफ कोई भी कार्रवाई नहीं नहीं हुई पूरा मामला ठंडे बस्ते में डाल दिया गया। हरिजन छात्रावास में अधिकतर छात्र ग्रामीण क्षेत्र से आते हैं। आदिवासी और हरिजन छात्रों के विकास के लिए शासन छात्रावास में सारी व्यवस्थाएं मुहैया कराती है लेकिन इसके बावजूद यहां पदस्थ वार्डन द्वारा इन छात्रों को सुविधाओं से वंचित रखा जाता है। सुविधाओं से वंचित रखे जाने पर जब छात्र इसका विरोध करते हैं तो संबंधित वार्डन द्वारा उन्हें धमकाया और डराया जाता है। कई बार तो डर के चलते छात्र शिकायत करने से भी पीछे हटने लगते हैं।

लंबे समय से जमे हैं हरिजन छात्रावास में नहीं हुआ तबादला

हरिजन छात्रावास में पदस्थ वार्डन लंबे समय से छात्रावास में पोस्टेड हैं। वार्डन का दूसरे किसी छात्रावास में तबादला तक नहीं हुआ। जो इस बात को दर्शाता है कि कहीं ना कहीं वार्डन की उच्च अधिकारियों से लंबी सांठगांठ है। जिसके चलते वे सिहोरा के हरिजन छात्रावास में लंबे समय से अंगद के पैर की तरह जमे हुए हैं।
Previous Post Next Post