डेढ़ किलोमीटर की दूरी पर एक दर्जन ब्रेकर राहगीर परेशान




डेढ़ किलोमीटर की दूरी पर एक दर्जन ब्रेकर
राहगीर परेशान


एनएचएआई विभाग के ठेकेदार का कारनामा : सवारी बसों का आवागमन बंद, पुराने राष्ट्रीय राजमार्ग
खिन्नी तिराहा कछपुरा से रोड का मामला

सिहोरा 

पुराने राष्ट्रीय राजमार्ग के खिन्नी तिराहा कछपुरा से जुझारी के बीच की दूरी लगभग डेढ किलोमीटर है। इस डेढ़ किलोमीटर की दूरी में इस सड़क को बनाने वाले एनएचएआई विभाग के ठेकेदार द्वारा कछपुरा से जुझारी के बीच में बारह ब्रेकर बना दिए गए।
ब्रेकर बनते ही इस सड़क से गुजरने वाली लगभग दो दर्जन सवारी बसों ने यहां से आना जाना बंद कर हाइवे बाइपास से आना जाना शुरू कर दिया है।

टूटते हैं बसों के कमानी पट्टे इसलिए नहीं ले जाते बस


सवारी बसों के चालकों का कहना है कि डेढ़ किलोमीटर की दूरी पर बारह ब्रेकर बनने के कारण यहां से गुजरने पर बसों के कमानी पट्टे
पटपट टूट रहे हैं। जिसके कारण बस मालिकों को नुकसान उठाना पड़ता है। इसलिए यहां से आना जाना हम लोगों ने बंद कर दिया है।

खनिज से लदे वाहनों के गति नियंत्रण के लिए बनाए ब्रेकर

वही ब्रेकर बनने के पीछे की वजह जाने तो कछपुरा ग्राम के लोगों का कहना है की यहां से खनिज को ढोने वाले भारी वाहन बेलगाम गति से गुजरते हैं इस कारण इन बड़े वाहनों की आवाजाही को नियंत्रित करने के लिएयह ब्रेकर स्थानीय लोगो ने सड़क निर्माण ठेकेदार से बोलकर बनवाए है। इन ब्रेकरों की वजह से आज यह स्थितियां निर्मित हो गई है की कछपुरा से जुझारी के बीच सड़क पर सन्नाटा मचा रहता है।

ब्रेकरों के कारण घायल होकर हड्डी टूट रही लोगों की

 इस डेढ़ किलोमीटर का सफर कोई भी दो पहिया चार पहिया वाहन चालक यहां से गुजरना पसंद नहीं करता। लोगों ने इस दिशा में सिहोरा एसडीएम के साथ एनएचएआई के प्रोजेक्ट डायरेक्टर से ध्यान देने की मांग की है। इन ब्रेकरो की वजह से होने वाली दुर्घटनाओं की बात करें तो लगभग दो दर्जन लोग इनकी वजह से गिरकर घायल हो गए है। कई लोगों के हाथ पैर टूट चुके है, वही लोग हड्डी रोग रीड की हड्डी के मरीज पेट के मरीज अंडकोष के मरीज बन रहे है। गाड़ी की तेज रफ्तार होने के कारण अनायास
गाड़ी गेंद जैसे उछल जाती है। लोगों के लिए आवागमन में परेशानी का सबब बने इन स्पीड ब्रेकरो को जनहित मे ध्यान रखते हुए हटाए जाने की मांग कीहै।
Previous Post Next Post