नगर पालिका अध्यक्ष प्रत्याशी को लेकर पर्यवेक्षक ने पार्षदों से रायशुमारी की

नगर पालिका अध्यक्ष प्रत्याशी को लेकर पर्यवेक्षक ने  पार्षदों से रायशुमारी की
 सिहोरा

 नगर पालिका परिषद के अध्यक्ष पद  प्रत्याशी  चयन में जहां कांग्रेश ने अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया है वही भारतीय जनता पार्टी में अभी तक पशोपेश की स्थिति है जिसको लेकर नगर में तरह-तरह की चर्चाएं व्याप्त हैं नगर पालिका अध्यक्ष प्रत्याशी के चयन में भाजपा के जिला प्रभारी द्वारा पार्षदों से वन टू वन चर्चा की गई इसके पश्चात कल पर्यवेक्षक के रुप में भाजपा संगठन के बृजेश चौरसिया द्वारा भाजपा पार्षदों एवं मंडल अध्यक्षों पदाधिकारियों सहित कार्यकर्ताओं से प्रत्याशी चयन को लेकर रायशुमारी की ,अंतिम निर्णय उनकी रिपोर्ट के आधार पर पार्टी द्वारा चयन किया जाएगा
         गौरतलब है कि 10 अगस्त को  नगर पालिका परिषद अध्यक्ष का चुनाव की तिथी  निश्चित की गई है 18 पार्षदोंवाली नगर पालिका परिषद में भाजपा के पार्षदों की संख्या 10 है वही कांग्रेस के पार्षदों की संख्या 6 है एवं भाजपा एवं कांग्रेस समर्थित दो प्रत्याशी निर्दलीय के रूप में निर्वाचित हुए हैं जिसको लेकर कांग्रेश द्वारा प्रत्याशी घोषित करने के बाद से कांग्रेसी खेमे में का माहौल थम सा गया है किंतु भाजपा द्वारा प्रत्याशी चयन में की जा रही देरी को लेकर अंदर से छन कर आ रही खबरों की माने तो भाजपा में तीन तीन दावेदारों के चलते प्रत्याशी चयन को लेकर पसीना आ रहा है वही कथित तौर पर चर्चा है कि पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं में आक्रोश है की प्रभारी  पर्यवेक्षक या कोई भी पदाधिकारी नगर में आता है तो उन्हें एनी टाइम खबर मिलती है पूर्व में किसी प्रकार की सूचना संचार माध्यमों से नहीं दी जाती, वही दबी जुबान से कुछ कार्यकर्ताओं ने कहा कि हमारी पर्यवेक्षक व प्रभारी से कही गई हमारी बातें वन टू वन चर्चा संबंधित चर्चित दावेदार तक कैसे पहुंच जाती है ? वन टू वन चर्चा का क्या औचित्य रह जाता है जब गोपनीयता नाम की चीज समाप्त हो चुकी है और हमें उसके कोप का भाजन बनना पड़ता है
Previous Post Next Post