Weenews: जब बाराती बनकर पहुंचे ईडी के अफसर जिन्हें देख व्यापारी ने सोने का फोन...

जब बाराती बनकर पहुंचे ईडी के अफसर जिन्हें देख व्यापारी ने  सोने का फोन...

रायपुर/भिलाई/राजनांदगांव. कारोबारियों के घर और संस्थानों में ईडी के छापेमारी से हड़कंप मच गया। ईडी के अधिकारी बराती बनकर पहुंचे। इससे कारोबारियों और उनके सूचनाकर्ता को भनक तक नहीं लगी। यहां तक जिले की सीमा पर तैनात पुलिस की पता नहीं चला। ईडी पुलिस के पूछने पर खुद को बाराती बताया। (ईडी) की टीम ने रायपुर, दुर्ग-भिलाई और राजनांदगांव स्थित 18 ज्वैलर्स, क्लाथ शोरूम, उनके घर और सीए के दफ्तर में शुक्रवार को छापा मारा।

महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ की 100 सदस्यीय टीम द्वारा सभी ठिकानों पर सुबह करीब 6 बजे छापेमारी की गई। इस दौरान टीम को देखते ही दुर्ग के कारोबारी द्वारा गोल्ड प्लेटेड मोबाइल मैदान में फेंक दिए। इसकी जानकारी मिलने पर ईडी ने दो गोल्ड प्लेटेड आईफोन बरामद किए हैं। बताया जाता है कि तलाशी में बड़ी संख्या में गोल्ड प्लेटेड मोबाइल कवर ज्वैलरी शोरूम से बरामद किए गए हैं। वहीं तलाशी में सोना और हीरा जड़ित ज्वैलरी बरामद की गई है। इस समय ईडी की टीम सभी 18 ठिकानों पर जांच कर रही है।

मनीलॉन्ड्रिंग और पॉलिटिकल फंडिंग

ईडी के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि पिछले काफी समय से तस्करी का सोना खरीदने, मनीलॉन्ड्रिंग करने और पॉलिटिकल फंडिग करने की जानकारी मिल रही है। वहीं कारोबारियों द्वारा हवाला के जरिए ब्याज पर रकम चलाने के इनपुट मिले थे। इसकी पुख्ता जानकारी मिलने के बाद महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ ईडी की टीम द्वारा संयुक्त रूप से कार्रवाई की गई है। सूत्रों का कहना है कि तस्करी के जरिए खपाए जाने वाले सोना, हीरा और प्लेटिनियम से मिली राशि को मनीलॉन्ड्रिंग के लिए खपाया जा रहा है। इसका हिस्सा राजनीतिक लोगों तक पहुंचाया जा रहा था। मिले इनपुट के आधार पर ईडी की टीम उनके उपर भी शिकंजा कसने की तैयारी में जुटी हुई है।

महानगरों से लेकर विदेशों तक आपूर्ति
देशभर के महानगरों में सोना-चांदी की मूर्तियां और अन्य सामानों के आपूर्ति से संबंधित दस्तावेज ईडी के हाथ लगे है। बताया जाता है कि तस्करी कर कोलकाता और विशाखापट्नम से सोना मंगवाने के बाद यहां मूर्तियों की ढलाई की जाती थी। इसमें चोरी का सोना भी खपाने की जानकारी सामने आई है।

सोने-चांदी की मूर्तियां मिली

ज्वैलरी शॉप में तलाशी के दौरान शोरूम में करोड़ों रुपए के सोने-चांदी और गोल्ड प्लेटेड मूर्तियां मिली है। बाजार में इनका मूल्य लाखों रुपए का बताया जाता है। वहीं बुलियन में निवेश कराने के दस्तावेज भी मिले है। बताया जाता है कि कारोबारियों द्वारा कोलकाता से तस्करी कर सोना मंगवाया जाता था। इसे बाजार से कम कीमत पर बिना बिल के बेचने की जानकारी भी मिल रही थी। इसकी शिकायत कुछ ज्वैलरी कारोबारियों द्वारा ईडी से की गई थी। इसके अलावा दुर्ग के एक सीए के दफ्तर में ईडी की पहुंची। किसी के अंदर आने जाने से मना कर दिया। 

पूरे दिन दस्तावेजों की जांच की।

ईडी को तलाशी के दौरान प्लेटिनम, डायमंड जड़ित गोल्ड की ज्वैलरी और सोना-चांदी की थाली, लोटा, गिलास और अन्य विलासिता का सामान भी मिला है। वहीं इसके विक्रय से संबंधित दस्तावेज भी बरामद किए गए है।

सुबह 6 बजे पहुंचे ईडी अफसर

शुक्रवार को सुबह 6 बजे महाराष्ट्र पासिंग गाड़ियों से ईडी के अधिकारी पहुंचे। इस बार सीएफ के महिला और पुरुष जवानों को साथ लाया गया। काफिले में करीब 12 गाड़ियां थी। जिसमें राजेश वेडिंग कविता का स्टीकर कांच पर चस्पा था। जिले की सीमा पाइंट पर तैनात पुलिस जवानों ने उन्हें रोका, लेकिन उन्हें बारात से लौटने की जानकारी देकर ईडी के अधिकारी निकल गए।
Previous Post Next Post