किसानों के खातों में अभी तक नहीं पहुंची बेची गई मूंग की रकम

किसानों के खातों में अभी तक नहीं पहुंची बेची गई मूंग की रकम 


भारतीय किसान संघ ने सिहोरा तहसील कार्यालय में दिया धरना : कलेक्टर के नाम अनुविभागीय अधिकारी को मांगों को लेकर सौंपा ज्ञापन

सिहोरा

किसानों ने समर्थन मूल्य पर शुरू हुई मूंग की खरीदी के केंद्रों में अपनी उपज तो बेच दी, लेकिन अभी तक किसानों के खातों में विक्रय की गई मूंग की राशि नहीं पहुंची। जिसको लेकर किसानों में भारी आक्रोश है। भारतीय किसान संघ (महाकौशल प्रांत) तहसील शाखा सिहोरा के बैनर तले किसानों ने तहसील कार्यालय में गुरुवार को धरना दिया और अपनी विभिन्न मांगों को लेकर कलेक्टर के नाम एसडीएम आशीष पांडे सिहोरा को ज्ञापन सौंपा।

भारतीय किसान संघ के तहसील अध्यक्ष सुरेश पटेल के साथ धरने पर बैठे किसानों ने बताया कि समर्थन मूल्य पर मूंग की सरकारी खरीदी शुरू हुए डेढ़ माह से अधिक समय हो गया है। किसानों ने अपनी उपज भी भेज दी लेकिन किसी भी किसान के खाते में अभी ढेला नही आया। नर्मदा विकास विभाग ने ग्रामीण क्षेत्रों में फसलों की सिंचाई के लिए बनाई गई नहरों में जमकर भ्रष्टाचार किया है। नहरों को आधा अधूरा छोड़ कर कागजों में पूरा कर दिया। ऐसे में किसानों को नहरों से सिंचाई के लिए पानी तक नहीं मिलेगा। 

सोसाइटी से नहीं मिल रही डीएपी और यूरिया भटक रहे किसान

किसान संघ के उपाध्यक्ष बृजेंद्र पटेल, जिला सदस्य रामकिशोर रघुवंशी, सचिव आशीष उपाध्याय ने आरोप लगाया कि सहकारी समितियों से किसानों को डीएपी और यूरिया नहीं मिल रही है किसान भटक रहे है। बड़े बड़े व्यापारियों ने गोदामों में स्टॉक करके यूरिया व डीएपी रख लिया है। वहीं कृषि विभाग के अधिकारी यहां झांकने तक नहीं जाते।

लगातार बढ़ते हैं अग्नि हाथ से मझगवां क्षेत्र को मिले फायर ब्रिगेड

मझगवां क्षेत्र में करीब 30 से 35 गांव है। गर्मी की फसल गेहूं के दौरान लगातार अग्नि हादसे होते हैं। लेकिन उस क्षेत्र में एक भी फायर ब्रिगेड नहीं है। गेहूं की फसल में आग लगने के दौरान जब तक फायर वाहन सिहोरा से संबंधित गांव पहुंचता है तब तक काफी देर हो जाती है। आग में सब कुछ खाक हो जाता है और किसान पूरी तरह बर्बाद हो जाता है ऐसे में जल्द से जल्द यहां फायर ब्रिगेड की व्यवस्था की जाए।
Previous Post Next Post