उत्तम क्षमा के साथ पर्व राज पर्यूषण का शुभारंभ

उत्तम क्षमा के साथ पर्व राज पर्यूषण का शुभारंभ



श्री 008 पाश्रनाथ दिगंबर जैन मंदिर खितौला और पंचायती जैन मंदिर सिहोरा में अभिषेक पूजन और शांति धारा

सिहोरा 

क्षमा धर्म के साथ  दिगंबर जैन समाज का आत्म शुद्धि का पर्युषण महापर्व शुरू शुरू हो गया। इसके लिए श्रद्धा, भक्ति और आस्था के केंद्र जिनालयों में विशेष साज-सज्जा की गई। महापर्व के लिए मंदिरों में विशेष तैयारियां की गई । श्री 1008 पार्श्वनाथ पंचायती जैन मंदिर सिहोरा में जैन धर्वावलंबी भक्तिभाव से सपरिवार मंदिर जी पहुंच कर अभिषेक पूजन कर रहे हैं। खितौला स्थित श्री 1008 पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर में मुनि श्री 108 यादवेंद्र सागर महाराज के सानिध्य में कार्यक्रम आयोजित हो रहे हैं। 


 यह जैन समाज का महत्वपूर्ण पर्व है। इन दिनों यथा शक्ति उपवास रखा जाता है। पर्व की समाप्ति पर क्षमायाचना पर्व मनाया जाएगा। दिगंबर जैन के अनुयायी आने वाले 10 दिन तक पर्युषण मनाएंगे। इसे दसलक्षण पर्व के नाम से भी संबोधित किया जाता है।

जैन धर्म के दस लक्षण

उत्तम क्षमा, उत्तम मार्दव, उत्तम आर्जव, उत्तम शौच, उत्तम सत्य, उत्तम संयम, उत्तम तप उत्तम त्याग, उत्तम अकिचन्य, उत्तन ब्रहमचर्य माना जाता है कि जो इन दस लक्षणों का अच्छी तरह से पालन करने से इस संसार से मुक्ति मिल सकती है। पर सांसारिक जीवन का निर्वाह करने में हर समय इन नियमों का पालन करना मुश्किल हो जाता है और बहुत शुभ और अशुभ कर्मों का बंध हो जाता है। इन कर्मों का प्रक्षालन करने के लिए दस दिनों तक श्रावक उत्तम क्षमा आदि धर्मों का पालन करेंगे
Previous Post Next Post