पत्नी निकली हत्यारिन, प्रेमी संग मिलकर पति को उतारा मौत के घाट

पत्नी निकली हत्यारिन, प्रेमी संग मिलकर पति को उतारा मौत के घाट


अवैध संबंधों के चलते सिर पर पत्थर पटक कर राज मिस्त्री की हत्या की

मझगवां पुलिस ने 24 घंटे में हत्याकांड का खुलासा

सिहोरा 

कुम्हि सतधारा गांव में राजमिस्त्री की सिर पर पत्थर पटक हत्या के मामले का मझगवां पुलिस ने वारदात के 24 घंटे के अंदर खुलासा कर दिए। राजमिस्त्री की हत्या उसी की पत्नी ने अपने प्रेमी और एक साथ के साथ मिलकर की। साक्ष्यों को छुपाने के लिए आरोपियों ने उसे एक्सीडेंट का रूप देकर राजमिस्त्री की लाश को गड्ढे में ढकेल दिया। पुलिस हत्याकांड के मामले में तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) शिवेश सिंह बघेल, एसडीओपी सिहोरा भावना मरावी ने पत्रकार वार्ता में बताया कि कौमी सतधारा निवासी आशीष चौधरी (32) की लाश रविवार को देसी शराब दुकान के आगे मैदान पर मिली। आशीष के सिर पर पत्थर पटक कर उसकी हत्या कर दी गई थी। मामले की गंभीरता को देखते हुए एसएफएल की टीम मौके पर पहुंची और आवश्यक नमूने लिए। हत्या के इस मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस ने टीम गठित कर जांच शुरू की।

ऐसे आरोपियों तक पहुंची पुलिस

हत्याकांड के मामले में पुलिस को यह जानकारी मिली कि मृतक आशीष चौधरी की पत्नी मनीषा उर्फ साधना चौधरी के धर्मेंद्र पटेल के साथ तीन से चार वर्षों से प्रेम संबंध थे। मृतक की पत्नी मनीषा और साधना चौधरी ने अपने पति आशीष चौधरी को रास्ते से हटाने के लिए धर्मेंद्र उर्फ घिन्नू पटेल और अमित और चालीसा पटेल के साथ मिलकर योजना बनाई। पुलिस तीनों आरोपियों को हिरासत में लेकर कड़ाई से पूछताछ की। आरोपियों ने सारा राज उगल दिया।

शराब पिलाने के बहाने बुलाया, सिर पर पत्थर पटक कर कर दी हत्या

मृतक की पत्नी मनीषा और साधना चौधरी के कहने पर आरोपी धर्मेंद्र उर्फ घिन्नू पटेल अमित उर्फ चालीसा पटेल के द्वारा आशीष चौधरी को शराब पिलाने के बहाने घटिया में रात में बुलाया। जहां शराब पीने के बाद धर्मेंद्र और अमित ने आशीष चौधरी के सिर पर पत्थर पटक कर उसकी हत्या कर दी। घटना को एक्सीडेंट का रूप देने के लिए आशीष की लाश को मोटरसाइकिल सहित गड्ढे में धकेल दिया इसके बाद दोनों आरोपी मौके से फरार हो गए। पुलिस ने आरोपियों के पास से घटना के समय पहने गए कपड़े मोबाइल मोटरसाइकिल एवं घटनास्थल से पत्थर और मृतक की मोटरसाइकिल जप्त कर ली है। हत्याकांड के खुलासे में थाना प्रभारी मझगवां लोकमत अहिरवार, उप निरीक्षक विनोद बागरी, सहायक उप निरीक्षक भैया लाल वर्मा, प्रधान आरक्षक राधा सिंह, आरक्षक देवराज कौरव,  हरिनारायण सुनील श्रीवास उल्लेखनीय भूमिका रही।
Previous Post Next Post