एकात्म मानववाद को जीवन में उतारें नगर में मनाई गई पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती

एकात्म मानववाद को जीवन में उतारें 
नगर में मनाई गई पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती


सिहोरा

25 सितंबर दिन रविवार को भारतीय जनता पार्टी के प्रणेता एवं राष्ट्रीय स्वयंसेवक के संस्थापक सदस्य पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी की जयंती शिशु मंदिर के सभाकक्ष मे मनाई गई।
इस मौके पर भारतीय जनता जिला उपाध्यक्ष पुष्पराज सिंह बघेल ने कहा की पंडित दीनदयाल उपाध्याय अपने तत्व चिंतन के लिए जाने जाते है, उनका एकात्म मानव दर्शन मात्र एक दर्शन नहीं वरन आचरण एवं व्यवहार में उतारने की दृष्टि से
बेहद महत्वपूर्ण है उन्होंने जो सूत्र समाज के सामने रखे है।
उनके आधार पर हमे अपने जीवन की प्रतिमा खड़ी करने के प्रयास करने चाहिए।
जनपद सदस्य धमेंद्र सिह राजपूत ने कहा कि श्री उपाध्याय का मानना था की केवल स्कूल और कॉलेज में दी गई शिक्षा अपने आप में संपूर्ण नहीं होती व्यापक समाज भी हमें शिक्षा देता है। स्कूली शिक्षा समग्र शिक्षा का बहुत छोटा हिस्सा होता है
व्यक्ति को परिवार पड़ोस मित्र पर्यावरण और समाज भिन्न भिन्न प्रकार से शिक्षित बनाते है।
पं. दीनदयाल ने ही ग्रामों के समग्र विकास व अंतोदय की परिकल्पना की थी जिसके के सार्थक परिणाम देखने को मिल रहे है।
जयंती कार्यक्रम में अध्यक्ष जनपद पंचायत श्रीमती रश्मि मनेंद्र अग्निहोत्री, जनपद उपाध्यक्ष दिलीप पटेल, जनपद सदस्य धर्मेंद्र सिंह राजपूत, अनिल चौधरी,  प्रकाश पालीवाल,  जीवन लाल गुप्ता,  महेंद्र सिंह, धीरेंद्र पाल भदोरिया,  अर्पित चौबे,  राजा दुबे, अमित परिहार, कमल पटैल,  अभिषेक पटेल, राकेश रजक सहित अनेक लोग उपस्थित थे।
Previous Post Next Post