पेंशन न्याय यात्रा निकाल किया संघर्ष का ऐलान पेंशन बहाली तक आंदोलन जारी रहेगा:जगदीश यादव

पेंशन न्याय यात्रा निकाल किया संघर्ष का ऐलान
पेंशन बहाली तक आंदोलन जारी रहेगा:जगदीश यादव


सिहोरा

पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर शिक्षक दिवस से प्रारंभ हुई पेंशन सत्याग्रह यात्रा सिहोरा पहुँची, जहाँ सैकड़ो की संख्या में शिक्षकों ने शामिल हो आंदोलन का ऐलान किया।यात्रा की अगुवाई कर रहे राज्य शिक्षक संघ के प्रांताध्यक्ष जगदीश यादव ने ऐलान किया कि सरकार जब तक पुरानी पेंशन बहाल नही कर देती आंदोलन जारी रखा जाएगा।

20 साल की सेवा 1119 रु पेंशन

यात्रा में शामिल हुए शिक्षक द्वारका प्रसाद परौहा ने बताया कि उन्होंने शिक्षक के पद पर 20 वर्ष 6 माह की सेवाऐं दी।अब जब वे सेवानिवृत्त हुए तो उन्हें प्रतिमाह 1119 रु पेंशन मिल रही है।संघ के जिलाध्यक्ष नरेन्द्र त्रिपाठी ने कहा कि इतने रु में एक वक्त की चाय भी नहीं पी जा सकती अन्य सुविधाएं क्या जुटाएंगे।पीड़ित शिक्षक द्वारका परौहा ने कहा कि अनाथालय जाने के अलावा उनके पास कोई मार्ग नही।


नई पेंशन नीति दोषपूर्ण

प्रांताध्यक्ष जगदीश यादव ने कहा कि आज शत प्रतिशत शासकीय लोकसेवक नई पेंशन नीति से प्रताड़ित है।आयु के 62 वर्ष में दो तीन हजार रु में जीवन कैसे जिया जा सकता है।नई पेंशन नीति दोषपूर्ण है और सरकार को इसे तत्काल बंद कर पुरानी पेंशन व्यवस्था बहाल करना चाहिए।

विधायक-सांसदों को पुरानी पेंशन

 सिहोरा तहसील अध्यक्ष अरविंद उपाध्याय ने बताया कि देश मे पेंशन की दोहरी व्यवस्था है,विधायको-सांसदों को शपथ लेने मात्र से आजीवन पुरानी पेंशन और पारिवारिक पेंशन व्यवस्था है और 30-30 वर्ष की सेवा देने वाले कर्मचारियों को अलग नई पेंशन व्यवस्था।यह निंदनीय है और इसका जमकर विरोध किया जाएगा।

25 को जिला स्तरीय धरना

जिलाध्यक्ष नरेंद्र त्रिपाठी ने बताया कि आगामी 25 सितंबर को संघ द्वारा जबलपुर के सिविक सेंटर में जंगी प्रदर्शन करते हुए धरना दिया जाएगा जिसमे जिले के सभी ब्लॉकों के शिक्षक शामिल होंगे।
 पेंशन सत्याग्रह न्याय यात्रा बारह जिलों में भ्रमण के बाद जबलपुर पहुंची थी।जबलपुर में सालीवाड़ा, कटंगी,रानीताल और मझौली में  सभाएँ करने के बाद सिहोरा में एक विशाल आयोजन हुआ जिसमें सैकड़ो शिक्षकों ने भागीदारी की।
Previous Post Next Post