महाराष्ट्र के सोलापुर में बंधक 75 मजदूर विधायक अजय विश्नोई के प्रयास से पहुंचे अपने गांव

महाराष्ट्र के सोलापुर में बंधक 75 मजदूर विधायक अजय विश्नोई के प्रयास से पहुंचे अपने गांव


उमर्दा और खमरिया गांव से गन्ने की कटाई के लिए गए थे

दीक्षाभूमि ट्रेन से पहुंचे जबलपुर, लौटने पर हुआ स्वागत


मझौली

मझौली तहसील के उमर्दा और खमरिया गांव में रहने वाले 75 मजदूर गन्ने की कटाई के लिए महाराष्ट्र के सोलापुर गए थे लेकिन वहां ठेकेदार ने सभी मजदूरों को बंधक बना लिया। पाटन विधायक अजय विश्नोई के प्रयासों से बंधक सभी मजदूर सकुशल शनिवार को अपने घर पहुंच गए। 

महाराष्ट्र सोलापुर जिले में गन्ने की कटाई के लिए मझौली तहसील के  उमर्दा और खमरिया गांव के 75 मजदूर करीब 6 माह पहले गए थे। गन्ने की कटाई के दौरान ठेकेदार ने सभी मजदूरों को बंधक बना लिया। मजदूरों को ना तो समय पर खाना मिल पाता था ना ही इनके काम के बदले इनको मजदूरी दी जाती थी। मामले की जानकारी जैसे ही पाटन विधायक अजय विश्नोई को लगी उन्होंने इस मामले की गंभीरता को समझते हुए जबलपुर एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा से चर्चा की और इन मजदूरों की घर वापसी के लिए प्रयास शुरू किया।


मजदूरों को घर वापस लाने गठित हुई टीम पहुंची सोलापुर

जबलपुर एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा के नेतृत्व में इंद्राना चौकी प्रभारी केशव बघेल के नेतृत्व में एक टीम का गठन किया टीम महाराज पहुंची और सोलापुर एसपी से संपर्क किया। सोलापुर एसपी के सहयोग से टीम ने सभी बंधक मजदूरों को ठेकेदार से छुड़वाया। सभी बंधक मजदूरों को दीक्षाभूमि ट्रेन से लेकर पुलिस टीम शनिवार 3:30 बजे जबलपुर पहुंची। 

भोजन की व्यवस्था की कॉलेज के वाहनों से घर तक पहुंचाया

बंधक मजदूरों के ट्रेन से जबलपुर पहुंचने पर पाटन विधायक अजय विश्नोई ने सभी मजदूरों का स्वागत किया और स्वयं के व्यय पर मजदूरों के भोजन की व्यवस्था की एवं कालेज के वाहनों से मजदूरों को अपने गांव भेजा ताकि वह अपने परिवार जनों के साथ खुशी के साथ दीपावली का त्यौहार मना सकें।
Previous Post Next Post