बारिश और आंधी से बिछी धान की खड़ी फसल, किसानों को नुकसान

बारिश और आंधी से बिछी धान की खड़ी फसल, किसानों को नुकसान


मझौली, सिहोरा, गोसलपुर क्षेत्र में मंगलवार को हुई तेज बारिश का असर, अन्नदाता के माथे पर चिंता की लकीरें

सिहोरा/मझौली 

मंगलवार रात हुई झमाझम बारिश और आंधी के चलते सिहोरा, मझौली और गोसलपुर क्षेत्र में धान की खड़ी फसल खेतों में बिछ गई। अंधड़ और बारिश के कारण धान की फसल में नुकसान का अनुमान लगाया जा रहा है।  बेमौसम बारिश के चलते किसानों के माथे पर धान की फसल को लेकर चिंता की लकीरें देखी जा सकती हैं।

जानकारी के मुताबिक मंगलवार रात हुई झमाझम बारिश और आंधी के चलते मझौली क्षेत्र के लमकना, हरसिंघी, जुनवानी और सिमरिया ग्रामों में खेतों में खड़ी धान की खड़ी फसल जमीन से लेट गई। किसानों के मुताबिक करीब 10 से 15 फीसद का नुकसान धान की फसल में बताया जा रहा है। इसी तरह गोसलपुर और सिहोरा के ग्रामों में भी धान की फसल कई जगह बारिश के चलते खेतों में लेट गई। 

तेज हवा के साथ हुई झमाझम बारिश, धान की खड़ी फसल बचाने की कवायद

किसान बहादुर पटेल,गोविंद पटेल, राजेश पटेल के मुताबिक रविवार रात हुई बेमौसम बारिश और आंधी के कारण खेतों में खड़ी धान की फसल जमीन से लेट गई। वैसे भी धान की फसल निपसने (फल पर) लगी है। मजबूरी में किसान धान को बचाने की कोशिश में लगा है। किसान अरविंद पटेल, प्रकाश पटेल, उदय पटेल, हजारी पटेल, दिलीप पटेल, महेश पटेल के मुताबिक मौसम का यही हाल रहा तो आगे धान की फसल को और ज्यादा नुकसान होगा। वैसे भी सिहोरा और मझौली तहसील में दलहनी फसल का रकबा कम है लेकिन धान का रकबा करीब 40 हजार हेक्टेयर से ज्यादा बताया जा रहा है। 


24 घंटे में 2 इंच से अधिक हुई बारिश

बात अगर सिहोरा क्षेत्र की की जाए तो तहसील कार्यालय स्थित मौसम विभाग के अधिकारियों के मुताबिक बीते 24 घंटे में 2 इंच (49.2 मिलीमीटर ) से अधिक बारिश दर्ज की गई।

इनका कहना

सिहोरा मझौली ब्लाक में बारिश और आंधी के चलते धान की फसल गिरने की जानकारी लगी है। दोनों ब्लॉकों के अधिकारियों से जांच प्रतिवेदन मंगाया गया है। प्रारंभिक तौर पर 8 से 10 फ़ीसदी धान के नुकसान का आकलन है।

मनीषा पटेल, अनुविभागीय अधिकारी कृषि सिहोरा
Previous Post Next Post