कार्तिक मास में महिलाएं कर रही दीपदान

कार्तिक मास में महिलाएं कर रही दीपदान,




 भगवान विष्णु और तुलसी माता की आराधना में लीन
सुबह से मंदिरों में लग रही भीड़

सिहोरा 

साल भर के सभी महीनों में सबसे पवित्र मास कार्तिक मास का प्रारंभ शरद पूर्णिमा के अगले दिन से प्रारंभ होते ही महिलाएं प्रातः काल स्नान कर मंदिरों में पूजन अर्चन करने पहुंच रही हैं वहीं मंदिरों व तुलसी घरों में सुबह शाम दीपक जलाकर भगवान की आराधना कर रही है।
पंडित आकर्षण त्रिपाठी ने बताया की कार्तिक मास सभी माहों में सबसे ज्यादा उत्तम माना गया है क्योंकि इस माह में भगवान विष्णु निंद्रा से जागते हैं और अपने भक्तों पर कृपा बरसाते हैं।
इस माह में भगवान विष्णु पृथ्वी पर अपने भक्तों के बीच जल में निवास करते है।
स्कंद पुराण के अनुसार इस माह में भगवान शिव के पुत्र कुमार कार्तिकेय ने तारकासुर का वध किया था
इस मास में ब्रह् मुहूर्त में उठकर स्नान करने से तभी सभी तीर्थों का फल प्राप्त होता है। इसके साथ ही नदी पोखर जलाशयों मे दीपदान से अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है। कार्तिक मास में महिलाएं तुलसी कोट पर सुबह शाम दीप जलाकर तुलसी मैया की पूजा करती है वही भगवान विष्णु की आराधना कर कार्तिक मास की कथा महिलाओं द्वारा सुनी जा रही है। नगर के मंदिरों में महिलाएं सुबह से स्नान कर पूजन अर्चन करने बडी संख्या मे पहुंच रही है।
Previous Post Next Post