नारकीय जीवन जीने को मजबूर सहजपुरा गांव के बाशिंदे शासकीय राशि का जमकर हुआ बंदरबांट

नारकीय जीवन जीने को मजबूर सहजपुरा गांव के बाशिंदे


शासकीय राशि का जमकर हुआ बंदरबांट : धरातल पर नहीं हुए विकास कार्य, कागजों तक सिमटा विकास ग्रामीणों ने एसडीएम को सौंपी, शिकायत
जनप्रतिनिधियों पर शासकीय राशि के गबन का आरोप, मामला सहजपुरा गांव का

मझौली

जनपद पंचायत मझौली की ग्राम पंचायत सहजपुरा गांव में शासन की तमाम योजनाओं का कागजों में दफन हो गया। धरातल पर विकास कार्य नहीं हुए परंतु जनप्रतिनिधियों द्वारा अधिकारियों की मिलीभगत से शासकीय राशि का जमकर बंदरबांट कर लिया गया। जहां एक ओर केंद्र और प्रदेश की सरकारे गांव के समग्र विकास की बातें करती हैं, वही सहजपुरा गांव की स्थिति बिल्कुल विपरीत है। ग्रामीणों ने अनेक बिंदुओं की शिकायत सिहोरा एसडीएम आशीष पांडे को सौंप कर निष्पक्ष जांच की मांग की है। 


ग्रामीणों का आरोप है की पिछले पंचवर्षीय कार्यकाल में शासकीय राशि का जमकर बंदरबांट हुआ है।
बड़े पैमाने पर ग्राम के सरपंच सचिव व जनपद के वरिष्ठ अधिकारियों की मिलीभगत से शासकीय राशि की होली खेली गई। गांव के प्रमुख पहुंच मार्ग आज भी अधूरे पड़े हुए हैं, नालियां गंदगी से बजबजा रही हैं,
आधी अधूरी नालियां लोगों के लिए परेशानी का सबब बनी हुई है। राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना के तहत स्वीकृत ओपन कैप का निर्माण अभी भी अधूरा पड़ा हुआ है। निर्माण सामग्री चोरी हो गई है एवं ओपन कैप निर्माण के लिए 200  सौ बोरी सीमेंट पानी पडने में पत्थर बन गयी है। स्कूल के नजदीक लगे हैंडपंप के पास बड़ा गड्ढा होने के कारण गांव की पूरी गंदगी मल मूत्र हैंड पंप के पास बजबजा रही है और उसी हैंडपंप का पानी पीने के लिए स्कूली छात्र विवश है। जिससे गांव में संक्रामक बीमारी फैलने का खतरा मंडरा रहा है।

स्कूल में चारों ओर गंदगी व्याप्त, बच्चों के स्वास्थ्य पर पड़ रहा विपरीत प्रभाव

वहीं दूसरी ओर विद्यालय के चारों ओर गंदगी व्याप्त है जिससे स्कूली छात्रों के अध्ययन अध्यापन कार्य में बुरा असर पड़ रहा है। वहीं बच्चों के स्वास्थ्य पर विपरीत असर देखने को मिल रहा है। गांव की सड़कों की खस्ता हालत देखकर अनेकों बार ग्राम के जागरूक नवयूवको द्वारा सीएम हेल्पलाइन व  वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया गया, परंतु जांच के नाम पर खानापूर्ति कर मामले की इतिश्री कर ली जाती है। अधिकारियों की लापरवाही के कारण ग्राम के लोगों मे आक्रोश पनप रहा है किसी भी दिन यह आक्रोश की ज्वाला आंदोलन के रूप में देखने को मिलेगी
Previous Post Next Post