डीएपी का रैक पहुंचते ही में उमड़ी किसानों की भीड़

डीएपी का रैक पहुंचते ही में उमड़ी किसानों की भीड़


विपणन संघ सिहोरा गोदाम में 4-5 नवंबर के क्रमानुसार कृषि और राजस्व विभाग के अधिकारियों की मौजूदगी में हुआ वितरण, किसानों को अभी भी यूरिया का इंतजार

सिहोरा 

रबी सीजन में गेहूं की बोवनी के लिए डीएपी- यूरिया के लिए परेशान होना पड़ रहा है। शनिवार को विपणन संघ (डबल लॉक) सिहोरा के गोदाम में डीएपी का रैक पहुंचते ही किसानों की किसानों की भारी भीड़ मौके पर उमड़ पड़ी। 4 और 5 नवंबर को जिन किसानों के नाम लिस्ट में थे उसी क्रमानुसार किसानों की बढ़ती भीड़ को देखते हुए पुलिस और कृषि विभाग के अधिकारियों की मौजूदगी में डीएपी का वितरण किया गया। वही यूरिया के लिए अभी किसानों को सोमवार या मंगलवार तक का इंतजार करना पड़ेगा। मालूम रहे कि 10 दिनों से डबल लॉक में डीएपी और यूरिया कास्ट आफ पूरी तरह खत्म हो गया था वही किसान एक-एक बोरी डीएपी और यूरिया के लिए हालाकान थे। 

 जानकारी के मुताबिक सिहोरा स्थित के गोदाम में डीएपी का एक रैक शुक्रवार को ही पहुंच गया था। शनिवार को एक रैक पहुंचने की खबर लगते ही किसान डबल लॉक के गोदाम पहुंच गए। उच्च अधिकारियों के निर्देश पर पहले ही कृषि विभाग के अधिकारी और पुलिस का अमला डबल लाके के गोदाम में मौजूद था। चार और पांच नवंबर को जिन किसानों के नाम लिस्ट में थे उन किसानों को क्रमानुसार डीएपी का वितरण किया गया। 

75 टन डीएपी पहुंची डबल लॉक में 

जानकारी के मुताबिक डबल लाख के गोदाम में 75 टन डीएपी का रैक पहुंचा था। क्रमानुसार करीब 200 से अधिक किसानों को डीएपी किसानों को वितरित की गई। साथ ही यूरिया का भी एक ट्रक वितरण के लिए विपणन संघ के गोदाम में आ गया था, लेकिन किसानों की बढ़ती भीड़ को देखते हुए यूरिया का वितरण सोमवार या मंगलवार को किसानों को क्रमानुसार किया जाएगा। 


किसानों का आरोप डीएपी की क्वालिटी सही नहीं, बोरी से बैच नंबर गायब

डबल लॉक की गोदाम में किसानों के वितरण के लिए पहुंचा डीएपी का रैक सही नहीं होने का आरोप किसानों ने लगाया किसानों का कहना था कि डीएपी की बोरी में संबंधित कंपनी का बैच नंबर तक नहीं है। जिसको लेकर किसानों में आक्रोश भी देखा गया।


वरिष्ठ कृषि विस्तार अधिकारी ने मौके पर लिए डीएपी के सैंपल

किसानों द्वारा डीएपी की क्वालिटी की क्वालिटी सही नहीं होने को लेकर सिहोरा के वरिष्ठ कृषि विस्तार अधिकारी जेएस राठौर ने डीएपी की सैंपलिंग कराई। संबंधित डीएपी की सैंपलिंग को जबलपुर भेजा जाएगा जहां इसकी क्वालिटी की जांच होगी।


इनका कहना

डबल लॉक में 75 टन डीएपी का रैक पहुंचा था। किसानों द्वारा क्वालिटी सही नहीं होने की बात को लेकर मौके पर डीएपी की बोरियों से सेंपलिंग कराई गई है। जिसे जांच के लिए भेजा जाएगा।

जेएस राठौर, वरिष्ठ कृषि विस्तार अधिकारी सिहोरा
Previous Post Next Post