स्थानांतरण के पांच माह बाद भी नहीं छूट रहा सीएमओ का "बंगले का मोह" नगर पालिका परिषद सिहोरा का मामला

स्थानांतरण के पांच माह बाद भी नहीं छूट रहा सीएमओ का "बंगले का मोह"


नगर पालिका परिषद सिहोरा का मामला : पूर्व मुख्य नगरपालिका अधिकारी जय श्री चौहान का जून माह में हो गया था स्थानांतरण, बंगले पर अभी भी कब्जा

वर्तमान मुख्य नगरपालिका अधिकारी लक्ष्मण सारस किराए के मकान में रहने को मजबूर


सिहोरा

सांसद, राज्यसभा सदस्य और विधायकों के कार्यकाल खत्म होने के बाद सरकारी बंगले खाली नहीं करने के मामले अक्सर सुनने मिलते हैं। नेताओं जैसे का "बंगले के मोह" अब सरकारी अधिकारियों में भी देखने मिल रहा है। मामला नगर पालिका परिषद सिहोरा का है, जहां स्थानांतरण के पांच माह बाद भी मुख्य नगरपालिका अधिकारी का "बंगले का मोह" नहीं छूट रहा है। बंगला खाली नहीं होने से वर्तमान मुख्य नगरपालिका अधिकारी किराए के मकान में रहने के लिए मजबूर हैं।


ये है मामला

नगरीय निकाय चुनाव से कुछ समय पहले नगर पालिका सिहोरा की मुख्य नगरपालिका अधिकारी जय श्री चौहान का स्थानांतरण शासन ने 15 जून 2022 को नगर पालिका परिषद गाडरवारा कर दिया था। मुख्य नगरपालिका अधिकारी को तत्काल रिलीव कर लक्ष्मण सारस को मुख्य नगरपालिका अधिकारी का प्रभार भी दे दिया गया। लगभग पांच माह से ज्यादा का वक्त गुजर गया, लेकिन जय श्री चौहान ने सिहोरा मुख्य नगरपालिका अधिकारी के बंगले को खाली नहीं किया। आखिर उस बंगले में क्या है जिसको लेकर जय श्री चौहान का "बंगले का मोह" खत्म होने का नाम नहीं ले रहा।



किराए के मकान में रहने को मजबूर वर्तमान मुख्य नगरपालिका अधिकारी

लक्ष्मण सारस ने 25 जून 2022 को मुख्य नगरपालिका अधिकारी का चार्ज ले लिया। नगर पालिका परिषद सिहोरा के चुनाव, अध्यक्ष-उपाध्यक्ष का निर्वाचन, शपथ ग्रहण तक हो गई, लेकिन बंगला खाली नहीं हुआ। मजबूरी में मुख्य नगरपालिका अधिकारी लक्ष्मण सारस को किराए के मकान में रहने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है।


बंगले में लटका ताला, नेम प्लेट तक नहीं बदली, साप्ताहिक बाजार लगाने वालों ने किया कब्जा

मुख्य नगरपालिका अधिकारी के बंगले में ताला लटका हुआ है स्थिति यह है कि अभी भी पूर्व मुख्य नगरपालिका अधिकारी जय श्री चौहान की नेम प्लेट लगी हुई है। बंगले में ताला लगे होने के कारण सोमवार को लगने वाले साप्ताहिक बाजार के दुकानदारों ने बंगले के सामने वाले हिस्से तक अपनी दुकानें सजा ली हैं।


जिम्मेदार प्रशासनिक अधिकारी भी नहीं दे रहे ध्यान

स्थानांतरण के बाद पूर्व मुख्य नगरपालिका अधिकारी जय श्री चौहान द्वारा सिहोरा स्थित बंगले को खाली नहीं किए जाने को लेकर स्थानीय प्रशासन के जिम्मेदार अधिकारी भी ध्यान नहीं दे रहे हैं। वर्तमान नगर पालिका अधिकारी ने इस मामले को लेकर कई बार उन्हें अवगत कराया।
Previous Post Next Post