बंदूक की नोक पर हाई क्वालिटी का रेड ऑक्साइड धड़ल्ले से खोद रहा माफिया, जेसीबी से बनाया रास्ता, काट डाले पेड़

बंदूक की नोक पर हाई क्वालिटी का रेड ऑक्साइड धड़ल्ले से खोद रहा माफिया, जेसीबी से बनाया रास्ता, काट डाले पेड़


वन विकास निगम कटनी की सिलौंडी रेंज के अंतर्गत आने वाली जोली बीट का मामला : जगह-जगह बनी खदानें, दहशत में ग्रामीण


सिहोरा 

वन विकास निगम कटनी की सिलौंडी रेंज के अंतर्गत आने वाली जौली बीट की पहाड़ी में उच्च क्वालिटी का रेड ऑक्साइड माफिया वन विकास निगम के बीट गार्ड को बंदूक दिखाकर धड़ल्ले से खोद रहे। पहाड़ी में माफिया कितना ज्यादा सक्रिय है इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि रेड रेड ऑक्साइड को खुद कर ले जाने के लिए बकायदा जेसीबी से रास्ता बनाया और कई पेड़ों को काट डाला जिसके निशान यहां साफ देखे जा सकते हैं।



हासिल जानकारी के मुताबिक वन विकास निगम कटनी की सिलौंडी रेंज की जोली बीट की पहाड़ी जबलपुर जिले में आती है। यहां से मझगवां कस्बे की दूरी जोली सिर्फ 5 किलोमीटर है। यहां की पहाड़ी में उच्च क्वालिटी का रेड ऑक्साइड है जिस पर माफिया की नजर काफी पहले से थी। खड़ी पहाड़ी में अलग-अलग जगहों पर माफिया ने जेसीबी से खुदाई कर हाई क्वालिटी के रेड ऑक्साइड को खोद डाला है। 


जगह जगह खदानें, रास्ता बनाने काटे पेड़

माफिया ने जोली बीट की पहाड़ी पर जगह जगह पर रेड ऑक्साइड की खदानें बना ली हैं। हाईवा डंपर और जेसीबी खदान तक ले जाने के लिए पेड़ों को काट डाला और रास्ता बना लिया। ग्रामीणों की माने तो रात में माफिया हाईवा डंपर के साथ पहाड़ी पर पहुंचता है और बकायदा रेड ऑक्साइड की खुदाई के काम में लग जाता है सुबह होते ही रेड ऑक्साइड को हाईवा डंपर में भरकर चंपत हो जाता है। 


2 से 3 किलोमीटर की दूरी पर है, चौकी लेकिन मुट्ठी भर आमला

सिलौंडी रेंज के अंतर्गत आने वाली जोली बीट की पहाड़ी से सिर्फ दो या 3 किलोमीटर की दूरी पर वन विकास निगम की चौकी है, लेकिन चौकी में सिर्फ मुट्ठी  भर अमला है। रेड ऑक्साइड के अवैध खनन करने वाला माफिया बाकायदा हथियारों से लैस होकर पहुंचता है। ऐसे में मुट्ठी भर अमला उनके सामने बेबस नजर आता है।



इनका कहना

सिलौंडी रेंज के अंतर्गत आने वाली जोली बीट की पहाड़ी में रेड अवैध उत्खनन के लिए रास्ता बनाने और पेड़ों को काटने  की जानकारी लगी है। अवैध उत्खनन के रास्तों को बंद करने जल्द ही कार्रवाई की जाएगी साथ ही अवैध उत्खनन करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। 

सुखनंदन सोमवंशी, रेंजर वन विकास निगम सिलौंडी रेंज
Previous Post Next Post