सिहोरा पुलिस संभाग के थानों में चल रहा धड़ल्ले से जुए-सट्टे का कारोबार !

सिहोरा पुलिस संभाग के थानों में चल रहा धड़ल्ले से जुए-सट्टे का कारोबार !


टी20 विश्व कप में लग रहे रोज दाव, सटोरियों पर पुलिस की कार्रवाई नहीं होने से उठ रहे सवाल

सिहोरा 

 सट्टे का कारोबार तो चल ही रहा था टी-20 क्रिकेट के विश्व कप ने इसमें और तेजी ला दी। सिहोरा पुलिस संभाग के सिहोरा, खितौला, गोसलपुर, मझगवां और मझौली थानों में धड़ल्ले से जुड़े और सट्टे का कारोबार चल रहा है। सटोरिए दांव पर दांव लगा रहे हैं और पुलिस सिर्फ हाथ पर हाथ धरे बैठी है। सटोरियों के ठिकानों पर पुलिस की दबिश ना देना कहीं ना कहीं पुलिस पर सवालिया निशान जरूर लगा रहा है। 


विश्व कप क्रिकेट में हर मैच में दांव लगाने से महिलाओं बच्चों सहित बुजुर्ग पीछे नहीं है। चाय पान के टपरों, किराना दुकानों और होटलों में धड़ल्ले से सटोरिए बकायदा मोबाइल फोन से बुकिंग कर रहे हैं, पुलिस का इन सटोरियों के खिलाफ कार्रवाई न करना कहीं न कहीं मिलीभगत की ओर इशारा कर रहा है। 



पुलिस को जा रहा सट्टा पट्टी का बड़ा हिस्सा !

सूत्रों की माने तो जुए और सट्टे के कारोबार में लिप्त सटोरिए और बुकी खुलेआम इस कारोबार को चला रहे हैं। सट्टे का कारोबार चलाने वाले सामने तो नहीं लेकिन दबी जुबान में यह जरूर कहते हैं कि पुलिस की वसूली गैंग रोज हमसे एक बड़ा हिस्सा लेकर जाती है। इसलिए हमें डरने की जरूरत नहीं। इस बात में कितनी सच्चाई है इसका आंकड़ा दीपावली में पुलिस की कार्रवाई से ही पता चलता है।


ग्रामीण क्षेत्र में जुए के लग रहे बड़े-बड़े फड़

शहरी क्षेत्र के थानों में जुए सट्टे का कारोबार तो चल ही रहा है। ग्रामीण क्षेत्र गोसलपुर, मझगवां में खेतों के अंदर और कई घरों में जुए के बड़े-बड़े फड़ चल रहे हैं। पुलिस को इन फडों की बाकायदा पूरी जानकारी रहती है, लेकिन बड़ा हिस्सा आने से पुलिस इन पर कोई भी कार्रवाई नहीं करती या यूं कहें आंख मूंदकर बैठी रहती है।

इनका कहना

जुआ और सट्टा एक सामाजिक बुराई है। जुआरियों और सटोरियों के खिलाफ लगातार कार्रवाई करती है। बड़े सटोरियों और बुकी के खिलाफ जल्द ही बड़ी कार्रवाई की जाएगी।

भावना मरावी, एसडीओपी सिहोरा
Previous Post Next Post