हाईवे पर मुख्य सड़क का हिस्सा धंस गया, पर विभाग की नजर नहीं

हाईवे पर मुख्य सड़क का हिस्सा धंस गया, पर विभाग की नजर नहीं
दुर्घटनाओं का ग्राफ बढ़ा,विभाग को नजर में नही आ रहे  सड़कों के गेफ


सिहोरा 

 राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 30 हाईवे सड़क मार्ग पर हिरन नदी के पुल के ठीक पहले स्थित छोटे नाले पर की सीमेंट कांक्रीट सड़क मार्ग का एक बड़ा स्पॉट न केवल धंस कर बैठ गया है,  बल्कि सड़क मार्ग के दो हिस्सों के बीच 5 से 6 इंच का गेफ निर्मित हो गया है। हाल ही में धंसी हुई सड़क का यह पार्ट दिन प्रतिदिन और गहराई बनाता जा रहा है, गहरी दरार भी चौड़ी हो गई है। 

राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 30 जबलपुर रीवा फोर लाइन सड़क मार्ग के जबलपुर सिहोरा हाईवे पर गाँधीग्राम से सिहोरा के बीच दुर्घटनाओं का ग्राफ लगातार बढ़ रहा है। वहीं विभाग दुर्घटना संभावित क्षेत्र  को दूर करने की जहमत नहीं उठा रहा है। अगर सिर्फ गाँधीग्राम से सिहोरा सड़क हाइवे की बात करें तो कई संभावित क्षेत्र हैं। यहां सड़क हादसे होने की मुख्य वजह ऐसी जगह पर नवनिर्मित फोरलेन सड़क मार्ग पर सड़क पर गहरी दरार,गहरे स्क्रेच, साइड रोड में गेफ लाइटिंग की कमी व स्पीड ब्रेकर का नहीं होना है। इनमें जल्द सुधार करने की जरूरत है ताकि सड़क दुर्घटनाओं को रोका जा सके। इस लापरवाही के लिए  जिम्मेदार विभाग हाथ पर हाथ धरे बैठे हैं,। जबकि न तो हाईवे  सुरक्षित हैं और न ही संपर्क मार्ग।



आमजन की दरकार सड़क पर गेफ स्पॉट को सुधारें-

सड़क हादसों के कारणों को दूर करने आमजन, राहगीरों, वाहन चालकों की दरकार तो है। परन्तु उच्चाधिकारी कारणों को दूर करने के निर्देश देते हैं, लेकिन निचले स्तर पर इनकी पालना नहीं हो रही है। कार्रवाई एक-दूसरे विभाग को पत्र लिखने तक सिमट जाती है। सड़कों पर मिट्टी के पैदल पार पथ  की वजह से लोगों को परेशानियां हो रही हैं। पेट्रोल पंपों के नजदीक अक्सर जान जोखिम में डाल लोग तेज रफ्तार ट्रैफिक के बीच सड़क पार करते दिख जाते है।।इस दिशा में जवाबदार ध्यान नही दे रहे है। ऐसी स्थिति में रात के समय सड़क हादसों की संभावना में क्रमशः इजाफा हो रहा है। सड़क पर गेफ वह दरारों पर वाहनों की चाक पढ़ते ही वाहन डगमगा जाते हैं व अनियंत्रित हो रहे हैं। यहां पर  केवल दो पहिया वाहन अपितु कार आदि भी बहक रही हैं जिससे दुर्घटना की संभावना बलवती होती जा रही हैं।
 गाँधीग्राम से गोसलपुर के बीच फोरलेन सड़क पर गाँधीग्राम,रामपुर,धमधा,स्टेशन तिराहा, जुझारी स्थानों पर सड़क में अनेक स्थानों पर लम्बी दरारें हैं।कई स्थानों पर रोड कटी-फटी है।जिनपर कुछ माह पहले मात्र केमिकल का लेप लगाया गया है।अब वे दरारें क्रमशः फिर उभर रही हैं। पटरी पर भारयुक्त वाहनों के दबाव के कारण मिट्टी युक्त पटरियों व सड़क में 5 से 6 इंच के गहरे गेफ हो गए हैं दिन व रात्रि के समय यहां से वाहन गुजरते समय अचानक लहरा जाते हैं और दुर्घटनाग्रस्त होकर गिर पड़ते हैं।


साईड रोड व पटरियों में भी गेफ 

एलएनटी द्वारा फोरलेन सड़क किनारे के ग्रामों में जहां तिराहा व चौराहे थे।वहाँ पर फोरलेन सड़क मार्ग से सटाकर डामर की सड़क फोरलेन से मिलाने बनाई है, उक्त सीमेंट रोड व डामर रोड में लंबे गेफ आने की वजह से  जब गाड़ियां गुजरती है तो लहरा जाती हैं और अनियंत्रित होकर यहां वहां घुसकर दुर्घटनाग्रस्त हो जाते हैं इस प्रकार के ब्लैक स्पॉट गाँधीग्राम,कुशनेर, रामपुर,गोसलपुर, जुझारी,घाटसिमरिया व  पहरेवा नाका आदि स्थानों में देखे जा सकते हैं।
Previous Post Next Post
Wee News