तकनीकी समस्या के चलते स्लॉट बुकिंग में परेशानी तौल के नाम पर हो रही ठगी

तकनीकी समस्या के चलते स्लॉट बुकिंग में परेशानी
तौल के नाम पर हो रही ठगी
चल रहा कमीशन का खेल : भगवान भरोसे चल रही धान खरीदी केंद्र, बारदाना का अभाव



सिहोरा 

तहसील के अंतर्गत गोसलपुर क्षेत्र के किसानों के लिए शासन द्वारा बनाए गए धान उपार्जन केंद्रों मे बद इंतजामी के चलते किसान परेशान है और अधिकारी बेपरवाह बने हुए हैं। ज्ञात हो की इस मर्तबा वेयरहाउस संचालकों को खरीदी सौंपी गई है जिस कारण प्रशासन का नियंत्रण बिल्कुल भी नहीं दिख रहा है और वेयर हाउस संचालक मनमर्जी से किसानों से मनमाना कमीशन वसूल रहे हैं।

तकनीकी समस्या

वही इस मर्तबा खरीदी प्रक्रिया को स्लाट बुकिंग प्रक्रिया से जोड़ दिया गया है किसानों को पहले अपना सिलाड बुक करना पड़ता है। स्लाट बुक में अनेकों तकनीकी समस्याओं आ रही है। इसके कारण सोसायटी के ऑपरेटर भी परेशान है वहीं दूसरी ओर किसान अपनी उपज तुलवाने बेहद परेशान हैं।
बडे किसानों ने बताया की 100  क्विंटल के ऊपर का 
बुक स्लाट नहीं हो रहा है जिससे बड़े किसान भी परेशान हैं। वहीं अनेक किसानों ने बताया की उनके खाते में आधार लिंक है इसके बावजूद भी स्लाट बुक नहीं हो रहा है और ना ही ओटीपी आ रही है।
किसानो का कहना है की एक ओर शासन द्वारा उपार्जन केंद्र में किसानों से खरीदी जा रही धान की फसल में किसानों को सुविधा के नाम पर बड़ी-बड़ी बातें की जाती हैं, वही किसानों को अपनी तुलाई का पूरा खर्चा उठाना पड़ रहा है ऊपर से खरीदी केंद्र प्रभारियों को कमीशन के नाम पर मोटी रकम देनी पड रही है। किसान को बेवजह परेशान किया जा रहा है इस और संबंधित अधिकारी मौन रूप धारण किए हुए हैं।

तौल में ठगी


धान उपार्जन प्रक्रिया मे तौल के नाम पर किसानों से ठगी हो रही है 40 किलो 800 ग्राम की जगह
41किलो 200 ग्राम तुलाई करवाई जा रही है जो की नियमो के तहत गलत है। किसान नेता रामराज पटैल, गुलाब सिंह मरकाम, चंदन कोरी ने ध्यान देने की मांग की है।

बारदानों से परेशानी

किसान ने बताया की खरीदी केंद्रों में जिला विपणन अधिकारी द्वारा बारदाना पहुंचाए जाते हैं जो बहुत ही घटिया स्तर के सड़े गले बारदाने निकल रहे है। जिस कारण किसानों की धान की उपज गिर रही है तोलने के बाद घट जाती है। तोल को लेकर किसान और वेयरहाउस संचालक के बीच आए दिन झगड़ा की स्थिति निर्मित हो रही है। कटे-फटे बारदाना मिलने के कारण किसान वेयर हाउस संचालक दोनों को नुकसान उठाना पड़ रहा है। इस संबंध में किसान नेताओ ने जिला कलेक्टर से ध्यान देने की मांग की है।
Previous Post Next Post
Wee News