शीतलहर के थपेड़ों से दिनरात चुभी ठण्ड कोहरा व बर्फीली हवा से बढ़ी गलन, ठंड से ठिठुरे लोग

शीतलहर के थपेड़ों से दिनरात चुभी ठण्ड
कोहरा व बर्फीली हवा से बढ़ी गलन, ठंड से ठिठुरे लोग


सिहोरा 

हाड़कपाऊ ठण्ड की जोरदार आगाज में शुभारंभ हो गया है। दिनभर व शाम से रात्रि में भी हाड़कपाऊ ठण्ड से लोग ठिठुर गए। कोहरा का साथ मिला तो हाड़कंपा देने वाली ठंड का सितम बढ़ गया। कोहरा छटने के बाद खिली धूप ने भी ठंड के सामने मत्था टेक दिया। दिनभर चल रही बर्फीली हवा व गलन से तापमान लुढ़का तो लोग गर्म कपड़ों में लिपटे नजर आए। बावजूद इसके ग्राम पंचायत गाँधीग्राम, देवनगर, ह्र्दयनगर, धरमपुरा,कुसनेर,मोहनियाआदि स्थानों में ठंड के समय लोग सुबह व शाम के समय अत्यधिक परेशान नजर आए।
हाड़कंपाऊ ठंड से बाहर निकले लोगों का शरीर काँपा जा रहा था। ठिठुरन बढ़ा देने वाली गलन से लोग कांपते रहे।सुबह से ही ठंड में इजाफा हो गया। कोहरा का साया देख वाहन चालक लाइट जलाकर गंतव्य की तरफ बढ़ते रहे। संपन्न लोग तो गर्म कपड़ों में लिपटकर रूम हीटर व अलाव तापकर ठंड से राहत महसूस कर रहे हैं, लेकिन गरीबों व मजदूरों के बच्चे भयंकर ठंड में फटे-पुराने कपड़ों में लिपटे कंपकंपाते नजर आ रहे हैं। मलिन बस्तियों में अलाव जलाने की कोई व्यवस्था नहीं की गई है। सर्द हवा के बीच गरीब ठंड से ठिठुर रहे हैं। शीतलहर में बाइक चला रहे लोगों का हाथ-पैर सुन्न हो जा रहा है।सूर्यास्त होते ही गलन और इतनी अधिक तेज बढ़ रही है कि लोग घरों में कैद हो जा रहे हैं। बिस्तरों में दुबके लोगों का शरीर भी ठंडा पड़ जा रहा है।धूप निकलने के कुछ समय बाद थोड़ी राहत जरूरी मिली लेकिन शाम ढलते ही सर्द हवा ने फिर अपना असर दिखाना शुरू कर दिया। ठंड से बच्चों व वृद्धों की दिक्कतें काफी बढ़ गई है।

ठंड का असर बच्चों की सेहत पर

वर्तमान समय मे शीतलहर के साथ बर्फीली ठंड से बच्चे कांप गए। शीतलहर के कारण अत्यधिक ठंड पड़ रही हैं।आगामी दिनों में तापमान में और गिरावट आने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता।
*घरों की दीवारें व फर्श ठंडे--इस संबंध में ग्रामीणों ने बताया कि वर्तमान समय में बर्फीली ठंड की वजह से रात्रि में ओस रूपी बर्फ गिरने से घरों की छत के साथ साथ दीवारें व फर्श बर्फ के समान रहते हैं।


स्वास्थ पर विपरीत प्रभाव 

 ठंड की अधिकता की वजह से बच्चों के स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है।गाँवो में गरीब परिवारों के बच्चे जिनके पास ऊनी स्वेटर  और गर्म कपड़े आदि की व्यवस्था नहीं है।अधिक ठंड की वजह से  देखा गया है कि  अधिकांश बच्चों को सर्दी,जुकाम इत्यादि की  परेशानियां भी हो रही है।
Previous Post Next Post
Wee News