यूरिया खाद का संकट : बाजार में लुट रहा किसान, मनमाने दामो में हो रही बिक्री

यूरिया खाद का संकट : बाजार में लुट रहा किसान,
मनमाने दामो में हो रही बिक्री
एक पखवाड़े से नहीं मिल पाई किसानों को खाद, समिति और डबल लॉक के चक्कर लगा रहे किसान


सिहोरा 

 सिहोरा तहसील के अंतर्गत संचालित सेवा सहकारी समिति बेला कछपुरा बुढागर लखनपुर में पिछले काफी दिनों से किसान रवि के सीजन में गेहूं की फसल की टॉप ड्रेसिंग हेतु खाद के लिए किसान भटक रहे हैं।
भले ही प्रदेश के मुखिया द्वारा किसानों को सस्ते दामों पर अच्छी खाद समय पर उपलब्ध कराने हेतु  भोपाल में बैठकर अधीनस्थ अधिकारियों को निर्देशित किया गया है, परंतु मैदानी अमले में तैनात कर्मचारियों की लापरवाही के चलते किसानों को खाद पाने के लिए दर-दर भटकना पड़ता है और मजबूरी में खुले बाजार से महंगे दामों में नकली व महंगी खाद खरीदनी पड़ती है। कछपुरा सोसाइटी के अंतर्गत आने वाले गांवो के किसानो ने बताया की एक पखवाड़े से खाद के लिए परेशान हैं। इसके बावजूद भी किसानों को खाद नहीं मिल रही।

किसानी का काम छोड़कर लगा रहे सोसाइटी के चक्कर

लगभग तीस फीसदी किसान ऐसे हैं, जिन्हे अभी तक खाद नही मिली। किसान अपना खेती किसानी का काम छोड़कर सोसाइटी के चक्कर लगा रहा है। अनेक किसानों का समूह जबलपुर सिहोरा डबल लाक खाद पाने रात मे ही चले जाते है और भोर सुबह से लाइन मे लग जाते है। इसके बाबजूद भी निराशा हाथ लग रही।

आरो भेजा नहीं,  आया आवंटन

समिति प्रबंधको का कहना है की यूरिया खाद का
आरो बनाकर भेज दिया गया है, परंतु आवंटन व रैक न लगने के कारण यह स्थिति निर्मित हो गई। क्षेत्र के किसानों ने जिला प्रशासन के मुखिया से ध्यान देने की मांग की है।

किसानो की मांग

 किसान का कहना है की ऐसे समय में किसानों को रासायनिक उर्वरकों की सतत आपूर्ति बनाए रखने के लिए विभागीय अधिकारियों को उर्वरक भंडारण केंद्रों का सतत निरीक्षण करना चाहिए।
Previous Post Next Post
Wee News