खोरसी स्कूल के शिक्षक ही बच्चों के मध्यान भोजन के चावल में कर रहे हेरा फेरी,,,,कलेक्टर से हुई शिकायत,जाँच टीम की गई गठित




 विवेक देशमुख
मस्तुरी । सरपंच ग्राम पंचायत मुडपार (खोरसी)  एवं अन्य लोगों के द्वारा कलेक्टर  बिलासपुर के समक्ष आवेदन पत्र प्रस्तुत किया गया है कि सुदर्पण ग्रामीण महिला स्व सहायता समूह खोरसी के शासकीय पूर्व माध्यमिक विद्यालय में मध्यान्ह भोजन चलाने का कार्य करती है, पर उस विद्यालय के  प्रभारी प्रधान पाठक  फुलचंद राठौर के कमीशन खोरी और आतंक से महिला समूह की महिलाएं सहित स्कूली बच्चे भी बहुत ज्यादा परेशान एवं त्रस्त है। और इन्हीं सभी परेशानियों को देखते हुए महिला समूह के सदस्यों और ग्राम के जनप्रतिनिधियों ने बिलासपुर कलेक्टर को लिखित में यह शिकायत किया है कि प्रभारी प्रधान पाठक फूलचंद राठौर आए दिन महिला समूह के लोगों को प्रताड़ित करता है मध्यान भोजन की राशि  5000 रु निकालने पर 2000 रू. को स्वयं ले लेता है और मध्यान्ह भोजन का चावल 3 क्विंटल आता है उसमें से 2 क्विंटल को स्कूल में लाता है और एक क्विंटल को बेच कर खा जाता है और विकास खंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय से जो सोयाबीन बडी आती है उसमे से आधे बड़ी को समिति वाले को देता है और आधे बड़ी को बेच कर खा जाता है । मना  करने या फिर गलत कार्यों को बोलने पर समिति वालो को धमकी देता है कि मेरा क्या उखाड़ लोगे कहकर बोलता है। स्कूल में आकर बैठा रहता है और बच्चे लोगो को  किसी भी प्रकार की  पढाई नही करवाता है । प्रभारी प्रधान पाठक के इन सभी कृतियों से परेशान ग्रामीणों और महिला समूह के सदस्यों एवं पंचायत के जनप्रतिनिधियों ने उन्हें तत्काल स्कूल से हटाने और उस पर बच्चों को प्रताड़ित करने के नाम पर  कानूनी कार्रवाई करने शिकायत की है। ग्रामीणों की शिकायत को संज्ञान में लेते हुए बिलासपुर कलेक्टर ने तत्काल इसमें टीम गठित कर जांच करने मस्तूरी एसडीएम को इसकी जवाबदारी सौंपी है ऐसे में मस्तूरी एसडीएम भी भला कैसे पिछे रहते। मामला को संज्ञान में लेते हुए मस्तूरी एसडीएम ने टीम गठित कर 7 दिवस के अंदर इस कमीशनखोरी करने वाले शिक्षक का जांच आदेश जारी किया है।
Previous Post Next Post
Wee News